Content SEO क्या है?

Content SEO का मतलब होता है अपने वेबसाइट या ब्लॉग के Content को इस तरह से लिखना और तैयार करना, जिससे आपके वेब पजों को सर्च इंजन में बेहतर रैंक मिल सके। लिखने का स्टाइल, कॉन्टेंट का ढाँचा, पेज का लेआउट, इमेज, इन्फोग्राफिक आदि का Content SEO में महत्वपूर्ण योगदान होता है। कीवर्ड रिसर्च, साइट का ढाँचा और कॉपी राइटिंग तीन ऐसे विषय हैं, जो किसी भी वेबसाइट को सर्च  इंजन में टॉप रैंक दिलाने में हेल्प करता हैं।

  1. Readable ब्लॉग पोस्ट कैसे लिखें? – आपकी हिन्दी के 8 टॉप सलाह।
  2. SEO friendly ब्लॉग पोस्ट कैसे लिखें ? – आपकी हिन्दी के 12 श्रेष्ट सलाह।

Content SEO बहुत महत्वपूर्ण विषय है, क्योंकि दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन जैसे, गूगल आपके वेबसाइट को रीड करता है, स्क्रॉल करता है। इसलिए आपके द्वारा इस्तेमाल किए शब्द ये निर्धारित करते हैं कि सर्च रिजल्ट के पेज पर आपकी वेबसाइट नजर आएगी या नहीं।

अब चाहे आपकी वेबसाइट या ब्लॉग अच्छी तरह से डिजाईन की गई हो, सभी तरह से टेक्निकल चीजों का प्रयोग हुआ हो, यूजर इंटरफेस भी अच्छा हो, पर यदि अच्छी क्वालिटी का कॉन्टेंट नहीं है, तो आप मान लीजिए किसी भी सर्च इंजन में वेबसाइट को रैंक कराना बहुत मुश्किल होगा।

कीवर्ड रिसर्च क्या है?


कीवर्ड रिसर्च का मतलब ये होता है कि अपनी वेब पेजों के लिए ऐसे शब्दों का इस्तेमाल करना जिसके द्वारा कोई भी दर्शक सर्च इंजन में सर्च करके हमारी वेबसाइट पर आता है। जैसे “mobile” लिखकर सर्च करने पर सबसे पहले फ्लिपकार्टस्नैपडील, गैजेट्स नाउ, ऐमज़ॉन आदि की वेबसाइट आ जाती हैं। तो यहाँ पर “mobile” एक कीवर्ड है। अगर आप अपनी वेबसाइट पर ज्यादा ट्रैफिक चाहते हैं, तो कीवर्ड रिसर्च बहुत जरुरी है। क्योंकि इससे पता चलता है कि सर्च इंजन से अधिक बार क्या सर्च किया जा रहा है।

कोई भी पोस्ट लिखने से पहले आपको कीवर्ड रिसर्च जरूर कर लेना चाहिए। किसी भी आर्टिकल को आप यदि रैंक करना चाहते हैं, तो कीवर्ड रिसर्च इसमें मदद करता है, क्योंकि आप जान लेते हैं कि इस आर्टिकल में कीवर्ड कौन सा होना चाहिए।

Top Level Domain Names कैसे चुनें? – आपकी हिन्दी के 11 बेस्ट सुझाव।

अदि आप कीवर्ड को सही तरीके से सर्च करते हैं, तो आपको यह भी पता चल जाता है दर्शकों द्वारा सर्च इंजन में किस सर्च टर्म्स का अधिक बार इस्तेमाल हो रहा है। किस सर्च टर्म्स से वेबसाइट अधिक बार सर्च इंजन के रिजल्ट पेज पर आ रही हैं। तो आप कोई भी कॉन्टेंट लिखते समय यह निर्णय लेने में सक्षम हो जाते हैं कि कौन से कीवर्ड का इस्तेमाल वेबसाइट की रैंकिंग के लिए बेहतर होगी।

यदि आप एक ब्लॉग का पोस्ट लिख रहें हैं, तो सबसे पहले आपको ये जान लेना चाहिए कि इस पोस्ट का कीवर्ड क्या होना चाहिए। कीवर्ड रिसर्च के द्वारा अपने सभी कीवर्ड का एक लिस्ट बना लें, और जो कीवर्ड उसमें बेहतर लग रहा है, उसका इस्तेमाल कीजिए।

साइट का ढाँचा या स्ट्रक्चर 

दूसरी जो सबसे महत्वपूर्ण चीज है, वो है साइट का ढाँचा। क्योंकि साइट का स्ट्रक्चर सर्च इंजन को यह बताने में मदद करता है कि आपकी सबसे महत्पूर्ण कॉन्टेंट वेबसाइट में कहाँ स्थित है। साइट का स्ट्रक्चर सर्च इंजन को यह बताने में मदद करता है कि वेबसाइट या ब्लॉग किस विषय के बारे में है। एक बेहतर स्ट्रक्चर वाले साइट को सर्च इंजन अच्छी तरह से इंडेक्स और स्क्रॉल करते हैं।

Content SEO के लिए साईट का स्ट्रक्चर

Image credits: markgrowth.com

गूगल वेबमास्टर के दिशानिर्देशों के अनुसार, “your website should “have a clear conceptual page hierarchy.” इसलिए आपके वेबसाइट का स्ट्रक्चर बहुत क्लियर और स्पष्ट होना चाहिए, जिससे वेबसाइट को स्क्रॉल करने में विज़िटर्स को भी बहुत आसानी हो।

एक बेहतर Content SEO के लिए कीवर्ड रिसर्च के साथ हीं साथ साइट का स्ट्रक्चर भी स्पष्ट और पिरामिड की तरह होना चाहिए, जहाँ सर्च इंजन के बोट्स के साथ हीं साथ इंसान को भी वेबसाइट को समझने में कोई परेशानी न हो।

कॉपी राइटिंग

एक बेहतर Content SEO के लिए तीसरा और अंतिम चीज है, कॉपी राइटिंग। आपको अपने ब्लॉग के लिए एक ऐसे कॉन्टेंट को लिखना चाहिए जो बहुत हीं आकर्षक और दर्शकों को आपकी साइट पर बाँधे रखने में सक्षम हो।

कुछ लोग पोस्ट लिखते समय कॉन्टेंट को सर्च इंजन के लिए ओवर ऑप्टिमाइज़ कर देते हैं, जो की ठीक नहीं होता है। पोस्ट गूगल के लिए नहीं लिखना चाहिए बल्कि रीडर के लिए लिखना चाहिए।

एक टॉप क्वालिटी की कॉपी राइटिंग के लिए पहली जरुरत होती है, ऑरिजिनल कॉन्टेंट। ब्लॉग पोस्ट नया, फ्रेश और नवीन होना चाहिए। इंटरनेट पर मौजूद सभी ब्लॉग से आपका ब्लॉग अलग होना चाहिए। ऐसा कॉन्टेंट होना चाहिए जिसे लोग पढ़ना पसंद करते हों। पोस्ट लिखकर उसे दो तीन बार अच्छी तरह से चेक करना चाहिए कि उसमें स्पेलिंग सम्बंधित कोई गलती तो नहीं है।

Leave a Comment